Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2023 · 1 min read

*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*

खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम (कुंडलिया)
_______________________________
खाना लाठी गोलियाँ , आजादी के नाम
कौन सरीखा तुम हुआ ,तुमको कोटि प्रणाम
तुमको कोटि प्रणाम , जेल में गली जवानी
धन्य तुम्हारा त्याग , धन्य तुम हे बलिदानी
कहते रवि कविराय , देश जब जश्न मनाना
जाना मगर न भूल , वीर की लाठी खाना
==========================
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
Harminder Kaur
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*आजादी का अर्थ है, हिंदी-हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
*आजादी का अर्थ है, हिंदी-हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जल
जल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
वह नारी है
वह नारी है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
ममतामयी मां
ममतामयी मां
Santosh kumar Miri
बेटियां
बेटियां
करन ''केसरा''
عظمت رسول کی
عظمت رسول کی
अरशद रसूल बदायूंनी
बेतरतीब
बेतरतीब
Dr. Kishan tandon kranti
..
..
*प्रणय प्रभात*
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
सच का सच
सच का सच
डॉ० रोहित कौशिक
शहर में नकाबधारी
शहर में नकाबधारी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गीत
गीत
Kanchan Khanna
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दोहा- दिशा
दोहा- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
चॅंद्रयान
चॅंद्रयान
Paras Nath Jha
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...