Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

ख़्वाब पर लिखे कुछ अशआर

कैसी थी बेख़्याली कि आंखों को मल गये ।
हक़ीक़त की आंच से सब ख़्वाब जल गये ।।

मुस्कुराहट लबों की क्या कहिए ।
मेरी आंखों में ख़्वाब तेरे हैं ।।

मेरे ख़्वाबों पर हक़ तुम्हारा है ।
ये तसल्ली क्या दे नहीं सकते ।।

तरसी हुई नज़र को उम्मीद-ए-दीद है ।
आ ख़्वाब बन के आजा आंखों में नींद है ।।

ताबीर न हो जिसकी न वो ख़्वाब सजाओ ।
आंखों को हक़ीक़त का ये एहसास कराओ ।।

टूटना इनका भी तो लाज़िम था ।
हमने आंखों में ख़्वाब रक्खें थे ।।

नफ़रतो को कुछ ऐसा मोड़ दिया ।
सिलसिला ख़्वाब का भी तोड़ दिया ।।

ऐ ज़िन्दगी तुझे ख़ोकर ही ज़िन्दगी समझी ।
गुज़रते वक़्त के लम्हों की अहमियत समझी ।।

जो आज है वही आज है बस अपना ।
कहाँ किसी ने इस बात की अहमियत समझी ।।

नींदे भी ज़रूरी है आंखों को ख़वाब दो ।
ज़िंदगी के सवाल का ख़ुद ही जवाब दो ।।

नाज़ुक था आंखों से ख़्वाब का रिश्ता ।
अपनी पलकों पर ख़्वाब क्या बुनता ।।

ख़्वाबो की तेरी दुनिया हक़ीक़त से दूर है ।
ला-हासिल ख़्वाहिशों की तमन्ना फ़िज़ूल है ।।

मेरे हिस्से की नींद दे मुझको ।
अभी आंखों के ख़्वाब बाक़ी थे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
ज़रूर है तैयारी ज़रूरी, मगर हौसले का होना भी ज़रूरी
ज़रूर है तैयारी ज़रूरी, मगर हौसले का होना भी ज़रूरी
पूर्वार्थ
2967.*पूर्णिका*
2967.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
लम्हें संजोऊ , वक्त गुजारु,तेरे जिंदगी में आने से पहले, अपने
लम्हें संजोऊ , वक्त गुजारु,तेरे जिंदगी में आने से पहले, अपने
Dr.sima
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
भगवान
भगवान
Adha Deshwal
*बेचारी जर्सी 【कुंडलिया】*
*बेचारी जर्सी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
👌कही/अनकही👌
👌कही/अनकही👌
*प्रणय प्रभात*
"चाँद"
Dr. Kishan tandon kranti
शिष्टाचार
शिष्टाचार
लक्ष्मी सिंह
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
तुमसे इश्क करके हमने
तुमसे इश्क करके हमने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
Mahendra Narayan
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वक़्त की एक हद
वक़्त की एक हद
Dr fauzia Naseem shad
"अमरूद की महिमा..."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिर  किसे  के  हिज्र  में खुदकुशी कर ले ।
फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।
himanshu mittra
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
Loading...