Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2023 · 1 min read

ख़्वाब की होती ये

आंख खुलते ही टूट जाता है ।
ख़्वाब की होती ये हक़ीक़त है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
10 Likes · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*प्रणय प्रभात*
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
"प्रेरणा के स्रोत"
Dr. Kishan tandon kranti
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
कैसा हो रामराज्य
कैसा हो रामराज्य
Rajesh Tiwari
हमको मिलते जवाब
हमको मिलते जवाब
Dr fauzia Naseem shad
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
Loading...