Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

ख़्वाब आंखों में टूट जाते है

नींद होती नहीं मुकम्मल है ।
ख़्वाब आंखों में टूट जाते हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
*परिवार: नौ दोहे*
*परिवार: नौ दोहे*
Ravi Prakash
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
वह नारी है
वह नारी है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
Suryakant Dwivedi
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
#यादें_बाक़ी
#यादें_बाक़ी
*Author प्रणय प्रभात*
नया
नया
Neeraj Agarwal
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
Dr fauzia Naseem shad
अक्षय तृतीया ( आखा तीज )
अक्षय तृतीया ( आखा तीज )
डॉ.सीमा अग्रवाल
ऐतबार कर बैठा
ऐतबार कर बैठा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
काश कही ऐसा होता
काश कही ऐसा होता
Swami Ganganiya
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
💐अज्ञात के प्रति-96💐
💐अज्ञात के प्रति-96💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
कवि दीपक बवेजा
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
Loading...