Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

उम्मीद

ख़ुद के दिल का ही कोई भरोसा नहीं,
दोष औरों को देने का क्या फ़ायदा..!
ज़ख़्म के फूल खिलते हैं खिल जाएंगे,
यूं ही रोने-सिसकने का क्या फ़ायदा…!
पास किसके कहां है ग़मों की कमी
हर किसी आंख से है झांकती नमी
दर्द कितने ही सीनों में सबके दफ़न
दर्द उनको दिखाने का क्या फ़ायदा…!
वक्त का ये परिंदा उड़ा जायेगा
ये रुकेगा नहीं, न तूं रोक पायेगा
है जुदाई–मिलन से भी पहले से तय तो
कोई उम्मीद लगाने का क्या फ़ायदा…!

©अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
२१/०२/२०२३

29 Likes · 1 Comment · 1132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
Ravi Prakash
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
एक लम्हा भी
एक लम्हा भी
Dr fauzia Naseem shad
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
Sukoon
༺♥✧
༺♥✧
Satyaveer vaishnav
जवानी के दिन
जवानी के दिन
Sandeep Pande
तेरे सांचे में ढलने लगी हूं।
तेरे सांचे में ढलने लगी हूं।
Seema gupta,Alwar
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
"फितरत"
Ekta chitrangini
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
फकत है तमन्ना इतनी।
फकत है तमन्ना इतनी।
Taj Mohammad
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
दीदार
दीदार
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
बदजुबान और अहसान-फ़रामोश इंसानों से लाख दर्जा बेहतर हैं बेजुब
बदजुबान और अहसान-फ़रामोश इंसानों से लाख दर्जा बेहतर हैं बेजुब
*प्रणय प्रभात*
हर कोई समझ ले,
हर कोई समझ ले,
Yogendra Chaturwedi
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
पूर्वार्थ
पूरी कर  दी  आस  है, मोदी  की  सरकार
पूरी कर दी आस है, मोदी की सरकार
Anil Mishra Prahari
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
VINOD CHAUHAN
Loading...