Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

ख़ामोशी रहना मुश्किल है!

हिंदुस्तान के ऐसे हालात हैं कि
हम ख़ामोश नहीं रह सकते!
हुक़्मरान के ऐसे करामात हैं कि
हम ख़ामोश नहीं रह सकते!!
अब अपनी मेहनतकश अवाम पर
ढाए जा रहे ज़ुल्म देख कर!
हमारे दिल के ऐसे जज़्बात हैं कि
हम ख़ामोश नहीं रह सकते!!
#उत्पीड़न #दलित #आदिवासी #दमन
#अल्पसंख्यक #जातीय #Lynching

Language: Hindi
110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कवि का दिल बंजारा है
कवि का दिल बंजारा है
नूरफातिमा खातून नूरी
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
तुम हो कौन ? समझ इसे
तुम हो कौन ? समझ इसे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
7. *मातृ-दिवस * स्व. माँ को समर्पित
7. *मातृ-दिवस * स्व. माँ को समर्पित
Dr .Shweta sood 'Madhu'
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
"मानव-धर्म"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन से ओझल हुए,
जीवन से ओझल हुए,
sushil sarna
Jindagi Ke falsafe
Jindagi Ke falsafe
Dr Mukesh 'Aseemit'
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
मैं हूं आदिवासी
मैं हूं आदिवासी
नेताम आर सी
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
Karuna Goswami
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
Value the person before they become a memory.
Value the person before they become a memory.
पूर्वार्थ
नैतिकता का इतना
नैतिकता का इतना
Dr fauzia Naseem shad
लोकतंत्र का खेल
लोकतंत्र का खेल
Anil chobisa
3554.💐 *पूर्णिका* 💐
3554.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*प्रणय प्रभात*
Loading...