Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2023 · 1 min read

ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं

ग़ज़ल
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ये फ़ैसले है मेरे रब के तो सवाल नहीं

हवाएँ भी हो मुख़ालिफ़¹ रवानी² में मौजें³
करें वो ग़र्क़⁴ सफ़ीने⁵ को ये मजाल नहीं

गुज़ार लेना गवारा मुझे है फ़ाक़े⁶ से
नही है रिज़्क⁷ वो मंज़ूर जो हलाल नहीं

यक़ीं मुझे है मुकम्मल⁸ मेरा सफ़र होगा
दिखा ही देगा वो जुगनू अगर मशाल नहीं

मैं रौशनी भी लुटाऊँगा देख लेना तुम
अभी उरूज⁹ है मेरा कोई ज़वाल¹⁰ नहीं

‘अनीस’ होंगे किसी दिन तो मुत्तफ़िक़¹¹ ये लोग
ज़रूर आज मेरा कोई हम-ख़याल¹² नहीं
– अनीस शाह ‘अनीस ‘
1.विरुद्ध 2.गतिशील 3लहरें 4.डुबाना 5.नाव 6.निराहार 7.अन्न 8.पूर्ण 9.विकास 10.पतन 11.सहमत 12.एक से विचार वाले

Language: Hindi
1 Like · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मी ठू ( मैं हूँ ना )
मी ठू ( मैं हूँ ना )
Mahender Singh
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—1.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—1.
कवि रमेशराज
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
Lohit Tamta
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ऊंट है नाम मेरा
ऊंट है नाम मेरा
Satish Srijan
गीत रीते वादों का .....
गीत रीते वादों का .....
sushil sarna
यही मेरे दिल में ख्याल चल रहा है तुम मुझसे ख़फ़ा हो या मैं खुद
यही मेरे दिल में ख्याल चल रहा है तुम मुझसे ख़फ़ा हो या मैं खुद
Ravi Betulwala
We make Challenges easy and
We make Challenges easy and
Bhupendra Rawat
*किसान*
*किसान*
Dr. Priya Gupta
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"बूढ़ा" तो एक दिन
*Author प्रणय प्रभात*
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
नया
नया
Neeraj Agarwal
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नयकी दुलहिन
नयकी दुलहिन
आनन्द मिश्र
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
चिंता अस्थाई है
चिंता अस्थाई है
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
शेखर सिंह
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
जय अन्नदाता
जय अन्नदाता
gurudeenverma198
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
Sukoon
Loading...