Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 1 min read

ख़फा होके हमसे

हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना ।
अशआर कोई मेरा गुनगुनाना ।।

फक्तश एक तमन्ना यही है हमारी ।
ख़फ़ा होके हमसे न तुम दूर जाना ।।

बिना शर्त तुमको चाहा है दिल ने ।
ज़रूरी नहीं कोई वादा निभाना ।।

बिछड़ कर कभी भी जी न सकेंगे।
न जो हो यकीं तो हमें आज़माना । ।

हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना ।
अशआर कोई मेरा गुनगुनाना ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

11 Likes · 410 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
इतने बीमार
इतने बीमार
Dr fauzia Naseem shad
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
"" *गणतंत्र दिवस* "" ( *26 जनवरी* )
सुनीलानंद महंत
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
*प्रणय प्रभात*
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
Rashmi Sanjay
24/01.*प्रगीत*
24/01.*प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
"कहीं तुम"
Dr. Kishan tandon kranti
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
Sanjay ' शून्य'
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Indu Singh
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
रिश्ते बनाना आसान है
रिश्ते बनाना आसान है
shabina. Naaz
स्त्री
स्त्री
Dinesh Kumar Gangwar
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Mahmood Alam
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* सखी  जरा बात  सुन  लो *
* सखी जरा बात सुन लो *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
Loading...