Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

खत लिखा था पहली बार दे ना पाए कभी

खत लिखा था पहली बार दे ना पाए कभी
कबूतर को भी मार डाला जमाने की गुलेल ने

1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
💐प्रेम कौतुक-231💐
💐प्रेम कौतुक-231💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पाँव
पाँव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/56.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/56.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभिनंदन डॉक्टर (कुंडलिया)
अभिनंदन डॉक्टर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
Shashi kala vyas
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
कवि दीपक बवेजा
किसान का दर्द
किसान का दर्द
Tarun Singh Pawar
हम आगे ही देखते हैं
हम आगे ही देखते हैं
Santosh Shrivastava
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
कबीर ज्ञान सार
कबीर ज्ञान सार
भूरचन्द जयपाल
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
Anil chobisa
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
Loading...