Jul 26, 2016 · 1 min read

खत्म होती पर आस नहीं,,

26.07.16
“आस”, बिन बह्र कुछ,,

नयन भर भर पीता आँसूं,
खत्म होती पर प्यास नहीं,,
गिरजे,मन्दिर,मस्जिद,ढूंढे बस खुदा
खत्म होती पर क़यास नहीं,,
झोलियाँ भर भर रत्न समेटे,
खत्म होती पर ह्रास नहीं,,
करे हर मुमकिन नुकसान प्रकति का,
खत्म होती पर त्रास नहीं,,
शेष बचा हो शून्य ही चाहे,
खत्म होती पर आस नहीं,,

****शुचि(भवि)****

1 Comment · 176 Views
You may also like:
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लाल टोपी
मनोज कर्ण
ग़ज़ल
kamal purohit
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
श्रृंगार
Alok Saxena
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...