Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

खत्म होती पर आस नहीं,,

26.07.16
“आस”, बिन बह्र कुछ,,

नयन भर भर पीता आँसूं,
खत्म होती पर प्यास नहीं,,
गिरजे,मन्दिर,मस्जिद,ढूंढे बस खुदा
खत्म होती पर क़यास नहीं,,
झोलियाँ भर भर रत्न समेटे,
खत्म होती पर ह्रास नहीं,,
करे हर मुमकिन नुकसान प्रकति का,
खत्म होती पर त्रास नहीं,,
शेष बचा हो शून्य ही चाहे,
खत्म होती पर आस नहीं,,

****शुचि(भवि)****

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 238 Views
You may also like:
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
श्री हनुमत् ललिताष्टकम्
Shivkumar Bilagrami
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
आस्तीक भाग -छः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लोकतंत्र में मुर्दे
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बात क्या है जो नयन बहने लगे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
भूख
मनोज कर्ण
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यकीं करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पापा
Nitu Sah
लगदी तू मुझकों कमाल sodiye
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सुभाषितानि
Shyam Sundar Subramanian
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भोजन
Vikas Sharma'Shivaaya'
ख़तरे में दुनिया
Shekhar Chandra Mitra
✍️कबीरा बोल...✍️
'अशांत' शेखर
उड़ान
Saraswati Bajpai
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
"नजीबुल्लाह: एक महान राष्ट्रपति का दुखदाई अन्त"
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुन ओ बारिश कुछ तो रहम कर
Surya Barman
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
Ram Krishan Rastogi
मैं तो अकेली चलती चलूँगी ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...