Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

खत्म होती पर आस नहीं,,

26.07.16
“आस”, बिन बह्र कुछ,,

नयन भर भर पीता आँसूं,
खत्म होती पर प्यास नहीं,,
गिरजे,मन्दिर,मस्जिद,ढूंढे बस खुदा
खत्म होती पर क़यास नहीं,,
झोलियाँ भर भर रत्न समेटे,
खत्म होती पर ह्रास नहीं,,
करे हर मुमकिन नुकसान प्रकति का,
खत्म होती पर त्रास नहीं,,
शेष बचा हो शून्य ही चाहे,
खत्म होती पर आस नहीं,,

****शुचि(भवि)****

Language: Hindi
1 Comment · 391 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
इतिहास
इतिहास
श्याम सिंह बिष्ट
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
DrLakshman Jha Parimal
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
'अशांत' शेखर
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
2778. *पूर्णिका*
2778. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन
जीवन
Neeraj Agarwal
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
Ravi Prakash
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कहो कैसे वहाँ हो तुम
कहो कैसे वहाँ हो तुम
gurudeenverma198
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
Shashi kala vyas
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
जीवन में
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...