Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

क्यों सोचता हूँ मैं इतना

मुझको नहीं मालूम,
कि तुझमें क्या विशेष है,
कि हटता नहीं है सच में,
मेरा दिलो- दिमाग सोचने में,
किसी और के बारे में कभी,
क्यों सोचता हूँ मैं इतना,
सिर्फ तेरे ही बारे में हमेशा।

इसका कारण क्या होगा,
शायद तेरी खूबसूरती हो,
शायद तेरी शरारतें हो,
मृगनयनी सी तेरी आँखें हो,
शायद तेरी चपलता हो,
कि खो जाता हूँ तुझमें ,
क्यों सोचता हूँ मैं इतना,
सिर्फ तेरे ही बारे में हमेशा।

कर रहा हूँ अर्पण तुमको मैं,
अपनी सारी दौलत- शौहरत,
अपनी खुशी और अरमान,
अपनी इज्जत और जान,
बदले में नहीं मांग रहा हूँ मैं,
तुमसे कुछ भी अपनी खुशी में,
और सींच रहा हूँ अपने पसीने से,
तेरे लिए यह गुलशन दिल से,
तुमसे क्यों इतना प्यार है,
क्यों सोचता हूँ मैं इतना,
सिर्फ तेरे ही बारे में हमेशा।

अच्छी नहीं लगती मुझको,
तुम्हारे चेहरे पर उदासी,
अच्छे नहीं लगते मुझको,
तुम्हारी आँखों में आँसू,
अच्छी नहीं लगती मुझको,
तुम्हारी बर्बादी- बदनामी,
आखिर किस रिश्ते से,
क्यों सोचता हूँ मैं इतना,
सिर्फ तेरे ही बारे में हमेशा।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
Ravi Prakash
आज के रिश्ते
आज के रिश्ते
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
इश्क में ज़िंदगी
इश्क में ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
Mahima shukla
■ जीवन सार...
■ जीवन सार...
*प्रणय प्रभात*
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
सत्य कुमार प्रेमी
हे मानव! प्रकृति
हे मानव! प्रकृति
साहित्य गौरव
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
DrLakshman Jha Parimal
दोहा- मीन-मेख
दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
Sukoon
3217.*पूर्णिका*
3217.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पक्की छत
पक्की छत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"सफर अधूरा है"
Dr. Kishan tandon kranti
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
Loading...