Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?

क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?

पापा पूछे रिंकू बेटा, मचा हुआ क्या खेल?
गणित परीक्षा में कर आया, तू क्यों अव्वल फेल?
रिंकू बोला अजब कहानी, पर पापा मुझको बतलानी,
टीचर से रिश्ता मेरा ,ऐसा वैसा कैसा समझानी।
प्रश्न पत्र में टीचर ने थे, ऐसे प्रश्न बिठाए,
काम ना आती अपनी बुद्धि , कैसे जुगत भिड़ाए।
गुस्से में हमने भी आकर , क्या क्या था लिख डाला,
एक प्रश्न के चार थे उत्तर , सबका सब टिक डाला।
गणित पत्र में वही प्रश्न थे , उनको जो भाता था,
उत्तर में लिख डाले मैंने , जो मुझको आता था।
मैथ के पेपर में धरती का , नक्शा डाला गोल,
टीचर की हीं गलती थी क्यों, पढ़ा नहीं भूगोल?

अजय अमिताभ सुमन

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
होली है!
होली है!
Dr. Shailendra Kumar Gupta
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
जन्म कुण्डली के अनुसार भूत प्रेत के अभिष्ट योग -ज्योतिषीय शोध लेख
जन्म कुण्डली के अनुसार भूत प्रेत के अभिष्ट योग -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आओ,
आओ,
हिमांशु Kulshrestha
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
आज का चिंतन
आज का चिंतन
निशांत 'शीलराज'
💐अज्ञात के प्रति-12💐
💐अज्ञात के प्रति-12💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
Sandeep Kumar
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
*श्रमिक मजदूर*
*श्रमिक मजदूर*
Shashi kala vyas
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"मैं आग हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
श्याम सरीखे
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
पूर्वार्थ
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
Loading...