Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2016 · 1 min read

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।
क्यों अधूरी जिंदगानी रह गई।

क्यों खफा हो ये बता दो तुम मुझे,
बिच हमारे दरमियानी रह गई।

चाँद- तारों में दिखे सूरत सनम,
ये मुहब्बत आसमानी रह गई।

तुम गुनाहों को छुपा सकते नहीं
आँख में जो सिर्फ पानी रह गई।

इश्क़ का इज़हार मैंने कर दिया,
मेहंदी बस अब लगानी रह गई।

लोग जो बदनाम करते है यहाँ,
प्यार उन्हें भी लुटानी रह गई।

गौर से सुन दर्द की आहें अभी,
जख्म में मरहम लगानी रह गई।

खो न देना इन खतों को अब शुभम्
आखिरी ये ही निशानी रह गई।

Language: Hindi
Tag: शेर
2 Comments · 384 Views
You may also like:
■ डूब मरो...
*Author प्रणय प्रभात*
"शिक्षक तो बोलेगा"
पंकज कुमार कर्ण
मां
KAPOOR IQABAL
कोई ऐसे धार दे
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष की शुरुआत / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
लौह पुरुष -सरदार कथा काव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ਸੀਨੇ ਨਾਲ ਲਾਇਆ ਨਹੀਂ ਕਦੇ
Kaur Surinder
“ मिलिटरी ट्रैनिंग सभक लेल “
DrLakshman Jha Parimal
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सारे आँगन पट गए (गीतिका )
Ravi Prakash
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
मुद्दतों बाद लब मुस्कुराए है।
Taj Mohammad
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
'The Republic Day '- in patriotic way !
Buddha Prakash
याद रखेंगे हम
Shekhar Chandra Mitra
इंसानो की यह कैसी तरक्की
Anamika Singh
" मायूस हुआ गुदड़ "
Dr Meenu Poonia
पर्वत
Rohit Kaushik
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
पहले प्यार में
श्री रमण 'श्रीपद्'
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Sahityapedia
ऐसा है संविधान हमारा
gurudeenverma198
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
रहस्यमय तहखाना - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
Ram Krishan Rastogi
★भोगेषु प्रियतायां सति एतस्य कारणं रस:★
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️नये सभ्यता के प्रयोगशील मानसिकता का विकास
'अशांत' शेखर
औरत
shabina. Naaz
अत्याचार अन्याय से लड़ने, जन्मा एक सितारा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...