Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।
क्यों अधूरी जिंदगानी रह गई।

क्यों खफा हो ये बता दो तुम मुझे,
बिच हमारे दरमियानी रह गई।

चाँद- तारों में दिखे सूरत सनम,
ये मुहब्बत आसमानी रह गई।

तुम गुनाहों को छुपा सकते नहीं
आँख में जो सिर्फ पानी रह गई।

इश्क़ का इज़हार मैंने कर दिया,
मेहंदी बस अब लगानी रह गई।

लोग जो बदनाम करते है यहाँ,
प्यार उन्हें भी लुटानी रह गई।

गौर से सुन दर्द की आहें अभी,
जख्म में मरहम लगानी रह गई।

खो न देना इन खतों को अब शुभम्
आखिरी ये ही निशानी रह गई।

2 Comments · 223 Views
You may also like:
किसान
Shriyansh Gupta
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
अपने इश्क को।
Taj Mohammad
बेरूखी
Anamika Singh
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
क़िस्मत का सितारा।
Taj Mohammad
✍️✍️मौत✍️✍️
"अशांत" शेखर
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सिपाही
Buddha Prakash
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
भरोसा नहीं रहा।
Anamika Singh
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
"अशांत" शेखर
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️मेहरबानी✍️
"अशांत" शेखर
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...