Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

क्या….

क्या….
तुम भी मुझे उतना ही प्यार करती हो,
मुझे उतना ही याद करती हो,
एक झलक देखने को मेरी,
क्या उतना ही बेक़रार रहती हो,
चाहती हो क्या तुम भी,
मेरे हाथों में हो हाथ अपना..
क्या तुम भी चाहती हो,
मुझसे बात करना,
बनाना हमराह मुझे अपना..
चाहती हो मिटाना दूरियां हमारे दरमियाँ,
या…
फ़िर प्रेम मेरा एक तरफा ही है
साथ जीने की चाहत भी
हकीकत नहीं, एक ख़्वाब ही है
अधूरी ख्वाहिशों सा
प्यार भी मेरा अधूरा है
तुम चाहो, न चाहो मुझे
तुम हो महफूज दिल में हमारे
प्रेम हमारा, बेशक अधूरा हो
मेरी तन्हाइयों में ज़िक्र बस तुम्हारा है!!

हिमांशु Kulshreshtha

488 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*वीरस्य भूषणम् *
*वीरस्य भूषणम् *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
कोरोंना
कोरोंना
Bodhisatva kastooriya
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
"सुखद अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
‘बेटी की विदाई’
‘बेटी की विदाई’
पंकज कुमार कर्ण
आत्म  चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
आत्म चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
प्रेमदास वसु सुरेखा
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
2963.*पूर्णिका*
2963.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
Neelam Sharma
■ सावधान...
■ सावधान...
*प्रणय प्रभात*
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
✒️कलम की अभिलाषा✒️
✒️कलम की अभिलाषा✒️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
मौलिक विचार
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
Loading...