Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2022 · 1 min read

– दिल का दर्द किसे करे बयां –

– दिल का दर्द किसे करे बयां –
दिल का दर्द किसे करे बयां,
मन की दास्तान का किसे करे बखान,
कोई नही यहा सुनने वाला,
सब है यहा बहरे और धृतराष्ट्र की संतान,
कोई नही समझ पाएगा ,
मेरे मन के भावों को,
कोई नही देख पाएगा,
मेरे मन के घावो को,
कोई नही सुन पाएगा,
मेरी चीख पुकारो को,
कोई नही जान पाएगा,
मेरे गठे अल्फाजो को,
कोई नही है अपना यहा,
सब है यहा पराए,
न कोई रिश्तेदारी है ना ,
न कोई संबंधों की डोर,
सब रिश्ते नाते चले गए है ,
चंद कागज के टुकड़ो की और
कागज के टुकड़ो का देखो है कैसा कमाल,
पराया होकर भी कर जाता है,
हर कोई अपनो सा व्यवहार,
दिल का दर्द किसे करे बयां,
मन की दास्तान का किसे करे बखान,

भरत गहलोत
जालोर राजस्थान
संपर्क सूत्र -7742016184 –
दिनांक 24/11/2022

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
पास आएगा कभी
पास आएगा कभी
surenderpal vaidya
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
umesh mehra
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ईर्ष्या
ईर्ष्या
नूरफातिमा खातून नूरी
मित्रता
मित्रता
Mahendra singh kiroula
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
Shweta Soni
कैसे लिखूं
कैसे लिखूं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ख़िराज-ए-अक़ीदत
ख़िराज-ए-अक़ीदत
Shekhar Chandra Mitra
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
*Author प्रणय प्रभात*
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
"पाठशाला"
Dr. Kishan tandon kranti
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
""मेरे गुरु की ही कृपा है कि_
Rajesh vyas
Loading...