Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2020 · 1 min read

क्या लिखूं

सब लिख रहे हैं…
सोचा मै भी लिखूं,
पर समझ नहीं आ रहा
क्या और किस पर लिखूं ???
क्या लिखूं उस देश पर ?
जिसने पूरे विश्व को
डाल दिया है खतरे में….
हर देश को खड़ा कर
दिया है कटघरे में………
या लिख डालूं
उस देश के खान पान पर
उनके रहने के अंदाज़ पर….
लेकिन वो तो सदियों से
यही सब खा रहे
ऐसे ही तो रह रहे….
फिर ये सब अब क्यों ???
तो लिखूं क्या उस विषाणु पर ?
जो छुप कर वार कर रहा
लाखों लोगों के प्राण हर रहा…
पर हम तो इक्कसवीं सदी में हैं
अणु, परमाणु बम हमारी मुट्ठी में हैं…
चांद मंगल पर अपनी धाक है
फिर भी सब इससे डर रहे
लगता ये तो एक मजाक है…
तो क्या फिर लिखूं मैं
इस साफ आसमान पर ,
या लिख डालूं कुछ
उन साफ पानी में उछलती मछलियों पर….
शायद लिखना होगा मुझे खुद पर
मैं ही तो हूं जिसकी
भूख हर पल बढ़ रही
जंगल काट खाए, नदियां पी ली
पहाड़ों को भी खा रहा
आधुनिकता की दौड़ में हूं बस भाग रहा…..
मुझे ही अब थोड़ा थमना होगा
अपनी भूख को ज़रा सा कम करना होगा…
मैं ही नहीं और भी हैं यहां
बस इतना सा समझना होगा ।।
सीमा कटोच
03/04/2020

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
"प्यार में तेरे "
Pushpraj Anant
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
एक फूल
एक फूल
अनिल "आदर्श"
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
Mahima shukla
दुआ
दुआ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
एक दोहा दो रूप
एक दोहा दो रूप
Suryakant Dwivedi
कोई नही है वास्ता
कोई नही है वास्ता
Surinder blackpen
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
surenderpal vaidya
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
उदघोष
उदघोष
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"उपबन्ध"
Dr. Kishan tandon kranti
सब कुछ मिट गया
सब कुछ मिट गया
Madhuyanka Raj
Loading...