Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

क्या मैं थी

क्या मैं थी,और क्या हो गई हूं।
लगता है मुझे, कहीं खो गई हूं।

बहुत बदल गया , मुझको ये सफर।
अजनबी सा लगे,अपना ही घर।

ज़िंदगी दिखा गई,मुझे ऐसे रंग ढंग।
आज़िज होकर इससे, मैं हुई हूं तंग।

खुदा बदले बहुत ,दुआ हुई न कबूल।
तुमसे इश्क करना,मेरी फक्त थी भूल।

लौट आओ,राह तकते हैं नैना।
आंख बरसे और कटे न रैना।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
फ़ितरत का रहस्य
फ़ितरत का रहस्य
Buddha Prakash
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
भरत कुमार सोलंकी
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
धर्म या धन्धा ?
धर्म या धन्धा ?
SURYA PRAKASH SHARMA
मेले
मेले
Punam Pande
हे मेरे प्रिय मित्र
हे मेरे प्रिय मित्र
कृष्णकांत गुर्जर
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सूखा पेड़
सूखा पेड़
Juhi Grover
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Neeraj Agarwal
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
राम जपन क्यों छोड़ दिया
राम जपन क्यों छोड़ दिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2996.*पूर्णिका*
2996.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
कमी नहीं
कमी नहीं
Dr fauzia Naseem shad
श्रृंगार
श्रृंगार
Neelam Sharma
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
* सिला प्यार का *
* सिला प्यार का *
surenderpal vaidya
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ज़रा-सी बात चुभ जाये,  तो नाते टूट जाते हैं
ज़रा-सी बात चुभ जाये, तो नाते टूट जाते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"भुला ना सकेंगे"
Dr. Kishan tandon kranti
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU SHARMA
सपने देखने से क्या होगा
सपने देखने से क्या होगा
नूरफातिमा खातून नूरी
बथुवे जैसी लड़कियाँ /  ऋतु राज (पूरी कविता...)
बथुवे जैसी लड़कियाँ / ऋतु राज (पूरी कविता...)
Rituraj shivem verma
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*प्रणय प्रभात*
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
दुरीयों के बावजूद...
दुरीयों के बावजूद...
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
Loading...