Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

क्या क्या बदले

बहना बाबुल मैया बदले
आँगन अमिया सखियाँ बदले
उमंग तरंग प्रसंग बदले
जीने के भी ढंग बदले
काया साया छाया बदले
आत्मा अंतस् अमाया बदले
चाल ढाल ख़्याल बदले
मन में उठते सवाल बदले
स्वजन सपन सघन बदले
किंचित कई कथन बदले
चाह राह ठाह बदले
पसंद नापसंद अथाह बदले
सोच आचार विचार बदले
सपनों का संसार बदले
तुमको पूरा करने को
हम पूरे के पूरे बदले
बदले में तुम क्या बदले
बदले में तुम क्या बदले

Language: Hindi
2 Likes · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
पिछले पन्ने 5
पिछले पन्ने 5
Paras Nath Jha
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
आम की गुठली
आम की गुठली
Seema gupta,Alwar
जो द्वार का सांझ दिया तुमको,तुम उस द्वार को छोड़
जो द्वार का सांझ दिया तुमको,तुम उस द्वार को छोड़
पूर्वार्थ
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
कवि रमेशराज
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
डी. के. निवातिया
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
"ख्वाबों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
Dr MusafiR BaithA
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
विषम परिस्थियां
विषम परिस्थियां
Dr fauzia Naseem shad
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*सेब का बंटवारा*
*सेब का बंटवारा*
Dushyant Kumar
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
■ विशेष व्यंग्य...
■ विशेष व्यंग्य...
*प्रणय प्रभात*
ज्यों स्वाति बूंद को तरसता है प्यासा पपिहा ,
ज्यों स्वाति बूंद को तरसता है प्यासा पपिहा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
उन से कहना था
उन से कहना था
हिमांशु Kulshrestha
Loading...