Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे

क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
हाल देखोगी मेरा, तो खुदकुशी कर लोगे..!!!

Vishal babu

285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
प्रारब्ध का सत्य
प्रारब्ध का सत्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
अब किसपे श्रृंगार करूँ
अब किसपे श्रृंगार करूँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
🙅आज का आनंद🙅
🙅आज का आनंद🙅
*प्रणय प्रभात*
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Paras Nath Jha
जीवन में
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
*दान: छह दोहे*
*दान: छह दोहे*
Ravi Prakash
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
गमले में पेंड़
गमले में पेंड़
Mohan Pandey
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
योगी?
योगी?
Sanjay ' शून्य'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दुआ
दुआ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
Sukoon
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
डरना नही आगे बढ़ना_
डरना नही आगे बढ़ना_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...