Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

क्या अब भी तुम न बोलोगी

कब तक चुप रहोगी
कब तक मुँह न खोलोगी
क्या बाक़ी रह गया सहने को
क्या अब भी तुम न बोलोगी

तुमको बेलन उनको कलम
अधिकारों की परिपाटी
प्रजनन का था फ़र्क़ किया
क्षमता नहीं थी बाँटी

ईश्वर ने ये कब कहा
तुम चौके की ही होलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी

उनका पोषण तेरा शोषण
वो बेहतर तुम कम हुई
उनको जन्म देने वाली
कोख में ही ख़त्म हुई

पितृसत्ता के तराज़ू
कब तक ख़ुद को तोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी

ख़रीदी गई बड़े धूम धाम से
तू पुरुष की परिणीता
अहो भाग्य कह दास हुई
क़त्ल हुई स्वाधीनता

लक्ष्मण रेखा के अंदर
आख़िर कब तक डोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी

थोपे गए सुलझाने को
रिश्तों के व्याकरण
जीवन बीता ढूँढती
रसोई बिस्तर समीकरण

काँटों की सैया पर
कितनी रातें सो लोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी

शर्म हया सब तेरे गहने
पाठ पढ़ाया बारंबार
लूट ले गए उसी लाज को
संस्कृति के ठेकेदार

क़िस्मत पर अपनी
और कितना रोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी

टुकड़ों में है काट दिया
तंदूर में आहुति हुई
सड़कों पर निर्वस्त्र घुमाया
महाभारत क्या फिर हुई

कृष्ण नहीं बचा कोई
किस किस को टटोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी

रेखांकन।रेखा

Language: Hindi
1 Like · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
आखिर क्या है दुनिया
आखिर क्या है दुनिया
Dr. Kishan tandon kranti
*भर कर बोरी रंग पधारा, सरकारी दफ्तर में (हास्य होली गीत)*
*भर कर बोरी रंग पधारा, सरकारी दफ्तर में (हास्य होली गीत)*
Ravi Prakash
पैसा होय न जेब में,
पैसा होय न जेब में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ट्यूशन उद्योग
ट्यूशन उद्योग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिंदी
हिंदी
Mamta Rani
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
किरदार
किरदार
Surinder blackpen
दुआ
दुआ
Dr Parveen Thakur
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
जब से हैं तब से हम
जब से हैं तब से हम
Dr fauzia Naseem shad
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
Monika Verma
Don't Be Judgemental...!!
Don't Be Judgemental...!!
Ravi Betulwala
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
Mukta Rashmi
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
Rj Anand Prajapati
■ मोहल्ला ज़िंदा लोगों से बनता है। बस्ती तो मुर्दों की भी होत
■ मोहल्ला ज़िंदा लोगों से बनता है। बस्ती तो मुर्दों की भी होत
*Author प्रणय प्रभात*
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...