Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

कौन सोचता….

कौन सोचता बोलो तुम ही, दुखिया की लाचारी पर ?
पढ़ो पोथियाँ भरी पड़ी हैं, भारत की सन्नारी पर।

देश हुआ आजाद मगर क्या, खुशहाली सब तक आयी ?
मिल जाएगी गली-गली में, क्या कहना बेकारी पर।

कल कितना चहका करती थी, आज न कोई नीड़ रहा।
जाने किसकी नजर लगी है, उस हँसती फुलवारी पर।

धन-कुबेर गड्डी नोटों की, फूँकें आतिशबाजी पर।
बच्चे निर्धन के घर देखो, टूट रहे तरकारी पर।

स्वार्थ-ग्रसित हो रिश्वत खाकर, न्याय गलत जो करता है।
ठोको दावा मिलकर सारे, उस ऊँचे अधिकारी पर।

बनना कुछ तो आज अभी से, खून-पसीना एक करो।
लक्ष्य न हासिल कर पाओगे, इस छिटपुट तैयारी पर।

रहें काम सधने तक अपने, फिर इनको परवाह नहीं।
स्वार्थ जनित सब रिश्ते-नाते, थू इस दुनियादारी पर।

जिस थाली में करते भोजन, छेद उसी में करते हैं।
रहें यहाँ पर गाएँ पर की, लानत इस गद्दारी पर।

वृद्धाश्रम में छोड़ गया सुत, चिंता फिर भी करती है।
सतत मनाती कुशल पुत्र की, सदके उस महतारी पर।

अमृत महोत्सव मना रहे हम, उत्सव रचकर गली-गली।
गुजरी सदी तीन-चौथाई, यूँ ही मारामारी पर।

किस्मत देती आई गच्चा, अब क्या आस लगानी है।
अब तो वक्त कटे ‘सीमा’ का, अंत-सफर तैयारी पर।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
3 Likes · 567 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
सितारा
सितारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
नेता
नेता
Raju Gajbhiye
you don’t need a certain number of friends, you just need a
you don’t need a certain number of friends, you just need a
पूर्वार्थ
3257.*पूर्णिका*
3257.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
Manoj Mahato
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
मौलिक विचार
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
महान व्यक्तित्व
महान व्यक्तित्व
pratibha Dwivedi urf muskan Sagar Madhya Pradesh
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नयी शुरूआत
नयी शुरूआत
Dr fauzia Naseem shad
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
#यह_है_बदलाव
#यह_है_बदलाव
*प्रणय प्रभात*
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चित्र और चरित्र
चित्र और चरित्र
Lokesh Sharma
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
"शान्ति-पथ"
Dr. Kishan tandon kranti
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
About your heart
About your heart
Bidyadhar Mantry
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
मेरा दिल अंदर तक सहम गया..!!
मेरा दिल अंदर तक सहम गया..!!
Ravi Betulwala
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
नदिया साफ करेंगे (बाल कविता)
Ravi Prakash
Loading...