Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 1 min read

कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?

कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
कोख पर नग्नता नाचती ठेश है ।

बद् कुपोषण-अशिक्षा का अंधा चलन।
सह रहा अब भी नर,व्याधि-पीड़ा -जलन।
बढ़ रहा, भ्रष्टतारूपी मल-बदचलन।
हाय ! क्षरती मनुजता दिखे, क्लेश है ।
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है ?

सिसकियाँ पायीं, भोजन नहीं पेट पर।
युवतियाँ बिक रहीं, दोष किसका रे नर ।
बन गए हम,शवों का उभरता नगर।
जन्म धरती वृथा ग्लानि-परिवेश है।
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?

दिव्य सत् को ही कम कर रहे आप-हम।
मैला संसार ढो ,जर रहे आप-हम।
नाव अवगुण की खे, डर रहे आप-हम।
मर गई चेतना, द्वंद-गम शेष है।
कौेन कहता कि स्वाधीन निज देश है?

जागरण का जो नायक है, वह ईश है।
बोध बिन ही तो जन,हीनता -शीष है।
आचरण का जो दीपक है, वह बीस है।
सोया तो डूबती नाव-सम रेष है।
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
कोख पर नग्नता नाचती ठेस है।

………………..
कोख=गर्भाशय
रेष=क्षति,हानि
——————-

●उक्त रचना को “पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” कृति के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

●”पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” कृति का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

उक्त रचना /गीत ,जे एम डी पब्लिकेशन नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2016 में प्रकाशित कृति/संकलन “भारत के प्रतिभाशाली हिंदी रचनाकार” में प्रकाशित हो चुकी/चुका है।

पं बृजेश कुमार नायक

2 Likes · 1 Comment · 376 Views
You may also like:
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समय ।
Kanchan sarda Malu
If we could be together again...
Abhineet Mittal
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
बरसात
मनोज कर्ण
💔💔...broken
Palak Shreya
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...