Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 1 min read

कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?

कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
कोख पर नग्नता नाचती ठेश है ।

बद् कुपोषण-अशिक्षा का अंधा चलन।
सह रहा अब भी नर,व्याधि-पीड़ा -जलन।
बढ़ रहा, भ्रष्टतारूपी मल-बदचलन।
हाय ! क्षरती मनुजता दिखे, क्लेश है ।
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है ?

सिसकियाँ पायीं, भोजन नहीं पेट पर।
युवतियाँ बिक रहीं, दोष किसका रे नर ।
बन गए हम,शवों का उभरता नगर।
जन्म धरती वृथा ग्लानि-परिवेश है।
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?

दिव्य सत् को ही कम कर रहे आप-हम।
मैला संसार ढो ,जर रहे आप-हम।
नाव अवगुण की खे, डर रहे आप-हम।
मर गई चेतना, द्वंद-गम शेष है।
कौेन कहता कि स्वाधीन निज देश है?

जागरण का जो नायक है, वह ईश है।
बोध बिन ही तो जन,हीनता -शीष है।
आचरण का जो दीपक है, वह बीस है।
सोया तो डूबती नाव-सम रेष है।
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
कोख पर नग्नता नाचती ठेस है।

………………..
कोख=गर्भाशय
रेष=क्षति,हानि
——————-

●उक्त रचना को “पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” कृति के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

●”पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” कृति का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

उक्त रचना /गीत ,जे एम डी पब्लिकेशन नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2016 में प्रकाशित कृति/संकलन “भारत के प्रतिभाशाली हिंदी रचनाकार” में प्रकाशित हो चुकी/चुका है।

पं बृजेश कुमार नायक

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 1 Comment · 537 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिस सामाज में रहकर प्राणी ,लोगों को न पहचान सके !
जिस सामाज में रहकर प्राणी ,लोगों को न पहचान सके !
DrLakshman Jha Parimal
*गीता सुनाई कृष्ण ने, मधु बॉंसुरी गाते रहे(मुक्तक)*
*गीता सुनाई कृष्ण ने, मधु बॉंसुरी गाते रहे(मुक्तक)*
Ravi Prakash
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
शिक्षा
शिक्षा
Buddha Prakash
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
"साड़ी"
Dr. Kishan tandon kranti
सखी री आया फागुन मास
सखी री आया फागुन मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
sushil sarna
अभी तक हमने
अभी तक हमने
*Author प्रणय प्रभात*
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
Kavi Devendra Sharma
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
दीवानगी
दीवानगी
Shyam Sundar Subramanian
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2551.*पूर्णिका*
2551.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
Utkarsh Dubey “Kokil”
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है
gurudeenverma198
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कवि दीपक बवेजा
रेलगाड़ी
रेलगाड़ी
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
💐अज्ञात के प्रति-150💐
💐अज्ञात के प्रति-150💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...