Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कौन उजाला लाएगा

वतन को रिश्वतों के रिवाज़ में जकड़ बैठे है,
कैसे ज़ाहिल लोग कुर्सियां पकड़ बैठे है।
**** ****

इस देश का ईमान बेईमान के हाथो में है,
हर इक काम नाकाम के हाथों में है।
कौन उजाला लाएगा ‘दवे’ तेरे प्यारे वतन में,
बेसहारा है सूरज, शाम के हाथों में है।
**** ****

264 Views
You may also like:
बदरिया
Dhirendra Panchal
ग़ज़ल
kamal purohit
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“ कोरोना ”
DESH RAJ
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
किताब।
Amber Srivastava
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
पिता
Santoshi devi
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
मानवता
Dr.sima
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
फूल की महक
DESH RAJ
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
Loading...