Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 2 min read

कौतूहल एवं जिज्ञासा

कौतूहल से तात्पर्य किसी विषय अथवा व्यक्ति विशेष के प्रति जानकारी एकत्र करने के इच्छा होना।
इसी प्रकार जिज्ञासा का शाब्दिक अर्थ भी समान है।
परंतु उनके भावार्थ भिन्न हैं।

कौतूहल में किसी जानकारी को प्राप्त करने की इच्छा में सकारात्मक एवं नकारात्मक भाव का समावेश हो सकता है, जबकि जिज्ञासा में सदैव सकारात्मक भाव विद्यमान रहता है।

कौतूहल से प्राप्त जानकारी की सत्यता में व्यक्तिगत विश्लेषण का अभाव होता है एवं समूह मानसिकता की अवधारणाओं को सत्य मान लिया जाता है।

जबकि जिज्ञासा में प्राप्त जानकारी की वैधता का विश्लेषण जानकारी के सकारात्मक एवं नकारात्मक पक्षों को दृष्टिगत रखते हुए व्यक्तिगत प्रज्ञाशक्ति के आधार पर किया जाकर उसकी मान्यता को स्वीकार या अस्वीकार किया जाता है।

जिज्ञासा में अन्वेषण भाव निहित होता है, जिसमें पूर्व प्रपादित एवं प्रचालित समूह अवधारणाओं की सत्यता को तर्क की कसौटी पर परखा जाकर व्यक्तिगत धारणा का निर्माण होता है।

यह सत्य है कि जिज्ञासा ज्ञान की जननी है।
जिसमें प्राप्त जानकारी के सतत् मंथन के माध्यम से सत्य की खोज की जाती है।

जबकि कौतूहल में दृष्टि भ्रम एवं माया द्वारा निर्मित परिदृश्य को सत्य मान लिया जाता है।

कौतूहल में जानकारी प्राप्त करने की इच्छा में अधिकांशतः समूह मानसिकता का समावेश होकर अंधविश्वास की उत्पत्ति होती है , एवं तर्क की कसौटी पर सत्यता की परख की कमी पायी जाती है ।

वर्तमान के संदर्भ में यह आवश्यक है किसी विषय अथवा व्यक्ति विशेष की जानकारी एकत्र करने में हम कौतूहल के स्थान पर जिज्ञासा का भाव अधिक रखें एवं प्राप्त जानकारी की सत्यता का विश्लेषण तर्क कसौटी पर करने के पश्चात ही व्यक्तिगत धारणा का निर्माण करें।
अन्यथा हम सत्य की खोज से सदैव वंचित रहेंगे।

Language: Hindi
321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
Ravi Prakash
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant Kumar Patel
💐Prodigy Love-15💐
💐Prodigy Love-15💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मिट्टी की खुश्बू
मिट्टी की खुश्बू
Dr fauzia Naseem shad
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
पूर्वार्थ
कविता
कविता
Rambali Mishra
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंधी
आंधी
Aman Sinha
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
ruby kumari
सबला
सबला
Rajesh
"जलन"
Dr. Kishan tandon kranti
#दोहा (आस्था)
#दोहा (आस्था)
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...