Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

कोशिस करो कि दोगले लोगों से

कोशिस करो कि दोगले लोगों से
गहरा सम्बन्ध ना रखो

क्योंकि ये नाराज होते हैं
तो सीधा इज्जत पर वार करते हैं

1 Like · 1498 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घनाक्षरी छंद
घनाक्षरी छंद
Rajesh vyas
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
स्वयं ही स्वयं का अगर सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
धरती का बेटा गया,
धरती का बेटा गया,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
"परिवर्तनशीलता"
Dr. Kishan tandon kranti
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सफर में हमसफ़र
सफर में हमसफ़र
Atul "Krishn"
दिल
दिल
Neeraj Agarwal
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
Kirti Aphale
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
आर.एस. 'प्रीतम'
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
Ram Krishan Rastogi
सजधज कर आती नई , दुल्हन एक समान(कुंडलिया)
सजधज कर आती नई , दुल्हन एक समान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
आओ,
आओ,
हिमांशु Kulshrestha
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
#संशोधित_बाल_कविता
#संशोधित_बाल_कविता
*प्रणय प्रभात*
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
मां तुम्हें आता है ,
मां तुम्हें आता है ,
Manju sagar
Loading...