Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

कोशिश कम न थी मुझे गिराने की,

कोशिश कम न थी मुझे गिराने की,
आदत न थी हार जाने की,
लोगों को पहचानने का हुनर मुझे आता है
उसकी आदत है नकाब लगाने की
विन्ध्य प्रकाश मिश्र विप्र

1 Like · 383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्द लफ़ज़ों में
दर्द लफ़ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बन्दगी" हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
2294.पूर्णिका
2294.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
सलाह .... लघुकथा
सलाह .... लघुकथा
sushil sarna
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
Ashok deep
अब
अब "अज्ञान" को
*Author प्रणय प्रभात*
"कैसा जमाना आया?"
Dr. Kishan tandon kranti
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
जीवन का एक चरण
जीवन का एक चरण
पूर्वार्थ
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
तेरे दिदार
तेरे दिदार
SHAMA PARVEEN
We are sky birds
We are sky birds
VINOD CHAUHAN
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
gurudeenverma198
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मन
मन
Ajay Mishra
हज़ारों साल
हज़ारों साल
abhishek rajak
लोग दुर चले जाते पर,
लोग दुर चले जाते पर,
Radha jha
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
चंदा तुम मेरे घर आना
चंदा तुम मेरे घर आना
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*जीवन का आधार है बेटी,
*जीवन का आधार है बेटी,
Shashi kala vyas
बुद्ध को अपने याद करो ।
बुद्ध को अपने याद करो ।
Buddha Prakash
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...