Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2016 · 1 min read

कोयला होता कभी हीरा नहीं

सर घमण्डी का रहे ऊँचा नहीं
कोयला होता कभी हीरा नहीं

खूब जी लो वक़्त का हर पल यहाँ
लौट कर आता गया लम्हा नहीं

पाप पुण्यों का अलग खाता बने
इसमें होता है कभी साझा नहीं

तोड़ देता आदमी को टूट कर
पर बिखरता खुद कभी वादा नहीं

मांग लेना दिल के बदले में ही दिल
प्यार कहते हैं इसे सौदा नहीं

फासला भी स्वप्न मंज़िल में बड़ा
रास्ता भी तो मिले सीधा नहीं

अर्चना कटती नहीं ये ज़िन्दगी
अपनों का मिलता अगर शाना नहीं

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उप्र )

228 Views
You may also like:
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
कृष्ण मुरारी
Rekha Drolia
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
**अनहद नाद**
मनोज कर्ण
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
gurudeenverma198
" सब्र बचपन का"
Dr Meenu Poonia
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️समझ के परे है दुनियादारी✍️
'अशांत' शेखर
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
जीवन में रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
सन्नाटा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पैसा
Kanchan Khanna
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भोजपुरिया दोहा दना दन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पापा
Nitu Sah
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविराज
Buddha Prakash
पिता
Aruna Dogra Sharma
बच्चों को इतवार (बाल कविता)
Ravi Prakash
धर्मपरिवर्तन क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
बढ़ती आबादी
AMRESH KUMAR VERMA
कौन बचेगा इस धरती पर..... (विश्व प्रकृति दिवस, 03 अक्टूबर)
डॉ.सीमा अग्रवाल
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
जब हवाएँ तेरे शहर से होकर आती हैं।
Manisha Manjari
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
मैं निर्भया हूं
विशाल शुक्ल
समझदारी - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...