Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2021 · 1 min read

कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस

कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
काश होता कोई इस ख़ाके – बदन का वारिस

जान से प्यारी है मुझको ये वतन की मिट्टी
मुल्क का अपने मुहाफ़िज़ हूँ, वतन का वारिस

बारहा मैंने उसे फूल मसलते देखा
बनके बैठा है चमन में जो चमन का वारिस

बद नसीबी कि कभी छत भी, मयस्सर न हुई
और कहने को हूँ मैं चर्खे़-कुहन का वारिस

उसकी यादें भी ख़फ़ा हो गयीं मुझसे वरना
मुद्दतों मैं रहा उस शोख़ के मन का वारिस

अपनी ग़ज़लों में फ़क़त मीर का रस घोल दिया
सारी दुनिया मुझे समझे है सुख़न का वारिस

ज़िन्दगी भर जो हिमायत में अंधेरों की रहा
मुन्तख़ब हो गया “आसी” वह किरन का वारिस
_______◆_________
सरफ़राज़ अहमद आसी

419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
Phool gufran
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
VEDANTA PATEL
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
तेरी याद ......
तेरी याद ......
sushil yadav
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
parvez khan
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
Surinder blackpen
कोरोना काल में काल से बचने के लिए
कोरोना काल में काल से बचने के लिए "कोवी-शील्ड" का डोज़ लेने व
*Author प्रणय प्रभात*
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दीवाने खाटू धाम के चले हैं दिल थाम के
दीवाने खाटू धाम के चले हैं दिल थाम के
Khaimsingh Saini
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
"प्रेमी हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Sushil Pandey
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
if you love me you will get love for sure.
if you love me you will get love for sure.
पूर्वार्थ
Loading...