Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!

कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
इश्क का रंग जिस पर चढ़ जाए..

रंजना वर्मा’रैन’

1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
💐अज्ञात के प्रति-54💐
💐अज्ञात के प्रति-54💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
"मनुष्यता से.."
Dr. Kishan tandon kranti
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
Sidhartha Mishra
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कोई साया
कोई साया
Dr fauzia Naseem shad
वृद्धाश्रम में दौर, आखिरी किसको भाता (कुंडलिया)*
वृद्धाश्रम में दौर, आखिरी किसको भाता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
नौकरी वाली बीबी
नौकरी वाली बीबी
Rajni kapoor
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
"जान-बूझकर
*Author प्रणय प्रभात*
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
STOP looking for happiness in the same place you lost it....
STOP looking for happiness in the same place you lost it....
आकांक्षा राय
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
क्या करते हो?
क्या करते हो?
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
कलमी आजादी
कलमी आजादी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...