Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,

कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
मिट गया है उसके यादों का समंदर, कहना होगा।
जमाना उठाएगा उंगली, मेरे ऊपर मुझे मालूम है,
खुद को जीने के लिए, खुद में, उसे मारना होगा।
उसे यकीन दिलाना होगा, अपने नये हकीकत पर,
सीने में दफन कर, किसी को जिन्दा करना होगा।
आखिर मेरा ही उसके लिए, तड़पना और रोना क्यों,
वह गुजर गई मेरी मुहब्बत से, मुझे भी चुपचाप गुजरना होगा।

1 Like · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई  लिखता है
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई लिखता है
Shweta Soni
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
■ आस्था की अनुभूति...
■ आस्था की अनुभूति...
*प्रणय प्रभात*
"गुणनफल का ज्ञान"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
खुद की एक पहचान बनाओ
खुद की एक पहचान बनाओ
Vandna Thakur
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
# 𑒫𑒱𑒔𑒰𑒩
DrLakshman Jha Parimal
........,
........,
शेखर सिंह
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Sakshi Tripathi
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहावली
दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
सफलता
सफलता
Raju Gajbhiye
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
पापा
पापा
Kanchan Khanna
ये दुनिया घूम कर देखी
ये दुनिया घूम कर देखी
Phool gufran
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
Lokesh Sharma
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
Piyush Goel
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
Trishika S Dhara
🌹थम जा जिन्दगी🌹
🌹थम जा जिन्दगी🌹
Dr Shweta sood
Loading...