Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

कोई जादू लगे है ख़यालात भी

खूब होती शरारत मेरे साथ भी
सब्र को अब मिले कोई सौगात भी

रंजिशे और नफरत भुला कर सभी
हो कभी दिल से दिल की मुलाक़ात भी

है बला की कशिश और लज़्ज़त जुदा
कोई जादू लगे है ख़यालात भी

फ़ासले अब मिटें, बंदिशें सब हटें
प्यार की छांव में बीते दिन-रात भी

है लबों पे दुआ गर सुनो तुम सदा
हो अयाँ आंखों से दिल के जज़्बात भी

चाहतों से महकता रहे सहने दिल
हम पे रहमत करे अब ये बरसात भी

दूर रख इन ग़मों को चलो कुछ हँसे
वक़्त के साथ बदलेंगे हालात भी

अयाँ: जाहिर, सहन: आँगन

© हिमकर श्याम

8 Comments · 221 Views
You may also like:
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बदलती परम्परा
Anamika Singh
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
पिता
Surjeet Kumar
शुभ मुहूर्त
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डूब जाता हूँ
Varun Singh Gautam
मेरे करीब़ हो तुम
VINOD KUMAR CHAUHAN
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
Subject- मां स्वरचित और मौलिक जन्मदायी मां
Dr Meenu Poonia
पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
" DECENCY IN WRITINGS AND EXPRESSING "
DrLakshman Jha Parimal
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शख्सियत - राजनीति में विरले ही मिलते हैं "रमेश चन्द्र...
Deepak Kumar Tyagi
बारिश का मौसम
विजय कुमार अग्रवाल
डरा हुआ विपक्ष
Shekhar Chandra Mitra
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राष्ट्रभाषा का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एहसास-ए-शु'ऊर
Shyam Sundar Subramanian
बिहार एवं बिहारी (मेलोडी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ज़िंदगी को पता नहीं होगा
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
तरुवर की शाखाएंँ
Buddha Prakash
जीवन क्षणभंगुरता का मर्म समझने में निकल जाती है।
Manisha Manjari
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
आहट को पहचान...
मनोज कर्ण
सजा मिली है।
Taj Mohammad
मिसाल और मशाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...