Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित

कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित न हो क्योंकि अपरिचित से कोई भी ईर्ष्या नहीं करता है यदि वह ईर्ष्या करने लगा है तो कहीं न कहीं वह उससे परिचित हो चुका है।
RJ Anand Prajapati

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#आज_की_चौपाई-
#आज_की_चौपाई-
*Author प्रणय प्रभात*
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
लाला अमरनाथ
लाला अमरनाथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
डर के आगे जीत।
डर के आगे जीत।
Anil Mishra Prahari
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"कोई तो है"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ सावन अब आ जाना
ऐ सावन अब आ जाना
Saraswati Bajpai
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
क्यों ज़रूरी है स्कूटी !
Rakesh Bahanwal
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️♥️✍️
✍️♥️✍️
Vandna thakur
स्त्री यानी
स्त्री यानी
पूर्वार्थ
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
gurudeenverma198
*धन्यवाद*
*धन्यवाद*
Shashi kala vyas
खूब उड़ रही तितलियां
खूब उड़ रही तितलियां
surenderpal vaidya
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
Ravi Prakash
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
sudhir kumar
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
"सफर,रुकावटें,और हौसले"
Yogendra Chaturwedi
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
Loading...