Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2021 · 2 min read

कॉलेज वाला प्यार

स्कूल की पढ़ाई
जब खत्म हो गई थी
दिल में थी उमंगे
जो साफ दिख रही थी

सामने दिख रही थी
कॉलेज की ही पढ़ाई
लेके दाखिला वहां
आगे ज़िन्दगी बढ़ाई

कॉलेज का पहला दिन था
मेरे साथी भी तो संग थे
मेरी ज़िन्दगी थी उनमें
वो इस ज़िन्दगी के रंग थे

मस्तियां ही करते
नहीं किसी से डरते
कॉलेज की ज़िन्दगी ये
अच्छे से चल रही थी

तब एक दिन वो आयी
मुझे पहली नज़र में भायी
आके सपनो मे थी सताती
फिर भी मुझको थी भाती

अब क्या नहीं मैं करता
उसी की राह तकता
मैनें ढूंढ ली खुदाई
वो फिर नज़र ना आई

मैं मायूस हो गया था
गमगीन हो गया था
यारों को खो गया था
अकेला हो गया था

तब एक सुबह आई
जब वो नज़र थी आई
मेरी दुनिया दिख रही थी
पलकें ठहर गई थी

जब सामने वो आई
हालेदिल बयां किया था
जो भी दिल में था
वो सब कह दिया था

मेरी किस्मत भी थी
उस दिन अच्छी
उसको भी मेरी बातें
लग रही थी सच्ची

उसने भी मेरे प्यार को
खुशी से कबूल कर लिया था
और हमारे प्यार का ये
सिलसिला शुरू हो गया था

मिलने लगे हम अक्सर
जब भी मौका मिलता
जब देखती थी उसे आंखे
दिल में था फूल खिलता

लग रहा था ये समय
जल्दी जल्दी बीत रहा है
फिर सगाई हुई तो लगा
हमारा प्यार जीत रहा है

अब कॉलेज की पढ़ाई
भी पूरी हो गई थी
हम दोनों के बीच
थोड़ी दूरी हो गई थी

कुछ ही सालों में हम
दोनों की शादी हो गई थी
और इस तरह हमारी ये
प्रेम कहानी पूरी हो गई थी ।

10 Likes · 1 Comment · 986 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपनी पहचान का मकसद
अपनी पहचान का मकसद
Shweta Soni
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
HEBA
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
दिल में बसाना नहीं चाहता
दिल में बसाना नहीं चाहता
Ramji Tiwari
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
सच और झूठ
सच और झूठ
Neeraj Agarwal
Why always me!
Why always me!
Bidyadhar Mantry
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
Anamika Tiwari 'annpurna '
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बादल
बादल
Shankar suman
अब तो तुम्हारी मांग में सिंदूर भरने के बाद ही,
अब तो तुम्हारी मांग में सिंदूर भरने के बाद ही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
*राम-नाम को भज प्यारे यह, जग से पार लगाएगा (हिंदी गजल)*
*राम-नाम को भज प्यारे यह, जग से पार लगाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
रेशम की डोरी का
रेशम की डोरी का
Dr fauzia Naseem shad
रपटा घाट मंडला
रपटा घाट मंडला
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बन्दिगी
बन्दिगी
Monika Verma
"पता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
3241.*पूर्णिका*
3241.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
VINOD CHAUHAN
Loading...