Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2024 · 1 min read

कैसे प्रियवर मैं कहूँ,

कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
विरही मन की बात ।
तुम बैठे परदेस मैं ,
जागूँ सारी रात ।।

सुशील सरना / 15-3-24

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
மறுபிறவியின் உண்மை
மறுபிறவியின் உண்மை
Shyam Sundar Subramanian
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
छोटे-मोटे कामों और
छोटे-मोटे कामों और
*प्रणय प्रभात*
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
The News of Global Nation
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"यथार्थ प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
पलक-पाँवड़े
पलक-पाँवड़े
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
याद दिल में जब जब तेरी आईं
याद दिल में जब जब तेरी आईं
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
खुद को पागल मान रहा हु
खुद को पागल मान रहा हु
भरत कुमार सोलंकी
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि  डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
Ravi Prakash
अपनों की जीत
अपनों की जीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पता ना था के दीवान पे दर्ज़ - जज़बातों  के नाम भी होते हैं 
पता ना था के दीवान पे दर्ज़ - जज़बातों  के नाम भी होते हैं 
Atul "Krishn"
संघर्ष हमारा जीतेगा,
संघर्ष हमारा जीतेगा,
Shweta Soni
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
शालीनता की गणित
शालीनता की गणित
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
2954.*पूर्णिका*
2954.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
आया खूब निखार
आया खूब निखार
surenderpal vaidya
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
व्यक्ति महिला को सब कुछ देने को तैयार है
व्यक्ति महिला को सब कुछ देने को तैयार है
शेखर सिंह
Loading...