Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2018 · 1 min read

कैसे आयी होगी

लूट कर एक मासूम की इज़्ज़त
तुम्हे नींद कैसे आयी होगी ,
अगर वो चिल्लाई होगी …तुम्हे अपनी बेटियां तो याद आयी होगी
इंसानियत की हवस तोड़ कर ..खुद को शेर समझने वाले
तुम जालिमो को इतनी हिम्मत कहा से आयी होगी
वो तड़पती रही तुम्हारे सामने जिंदगी को लेकर
थोड़ी सी तो दिल में रहम आयी होगी
तुम इतने बेशर्म कैसे हो गए जालिमो ,
तुम्हारे माँ बाप ने शायद ऐसी तालीम दिलायी होगी ।
तुमने तड़पा कर उन नन्ही बेटियो को …
अपनी बेटियों से आँख कैसे मिलायी होगी ।

✍? :- हसीब अनवर

Language: Hindi
2 Likes · 497 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
Dr MusafiR BaithA
तक़दीर शून्य का जखीरा है
तक़दीर शून्य का जखीरा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
कोशिश करना छोड़ो मत,
कोशिश करना छोड़ो मत,
Ranjeet kumar patre
आदमी
आदमी
अखिलेश 'अखिल'
वो मेरी कविता
वो मेरी कविता
Dr.Priya Soni Khare
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Mushaakil musaddas saalim
Mushaakil musaddas saalim
sushil yadav
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
नया नया अभी उजाला है।
नया नया अभी उजाला है।
Sachin Mishra
सूरज जैसन तेज न कौनौ चंदा में।
सूरज जैसन तेज न कौनौ चंदा में।
सत्य कुमार प्रेमी
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
🌸*पगडंडी *🌸
🌸*पगडंडी *🌸
Mahima shukla
पानी बचाऍं (बाल कविता)
पानी बचाऍं (बाल कविता)
Ravi Prakash
"वीक-एंड" के चक्कर में
*प्रणय प्रभात*
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
Manoj Mahato
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
Loading...