Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2018 · 1 min read

‘ये कैसा मंज़र है’

“हर घड़ी उत्पात है,ये कैसा मंज़र है,
बिन बादल बरसात है, ये कैसा मंज़र है,
जिसको देखो लिप्त है,निंदा और नफरत में,
अचरज की हर बात है,ये कैसा मंज़र है,
ऊपर से सब प्यार दिखाते,छुपा के रखा खंजर है ,
भीतर सबके घात भरा ये कैसा मंज़र है,
महफूज नही अब रहा कोई,
नित बढ़ते अपराध से,
लूट -पाट और भ्रष्टाचार के बढ़ते अनुपात से,
मार -पीट हो जाती है,छोटी-छोटी बात से,
माँ बाप भी बोझ बने,ये कैसी फ़ितरत है,
बदलते हुए ज़माने की ये कैसी सूरत है,
गाड़ी,बंगला,दौलत,शोहरत,
बस इसकी ही ज़रूरत है,
रिश्ते नातों का मोल नहीं, ये कैसा मंज़र है,
सड़कों की साज सजावट में वृक्षों की कटाई जारी है,
कारख़ानों के धुओं से वायु प्रदूषण भारी है,
नदियाँ हुई मलिन सभी,
कचरों का प्रवाह इनमें निरंतर जारी है,
ये सब प्राकृतिक आपदाओं के,
निमंत्रण की तैयारी है,
ना सोचेंगे कल की तो, एक ऐसा दिन आयेगा,
साँस लेना भी मुश्किल होगा,
वातावरण दूषित हो जाएगा,
तन,मन और जीवनशैली को आज बदलना होगा,
देर अधिक होने से पहले हमें सुधरना होगा “

Language: Hindi
267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
"कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
तन मन में प्रभु करें उजाला दीप जले खुशहाली हो।
तन मन में प्रभु करें उजाला दीप जले खुशहाली हो।
सत्य कुमार प्रेमी
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
जिंदगी और जीवन में अपना बनाएं.....
जिंदगी और जीवन में अपना बनाएं.....
Neeraj Agarwal
लगाव
लगाव
Arvina
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ओ पथिक तू कहां चला ?
ओ पथिक तू कहां चला ?
Taj Mohammad
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चतुर लोमड़ी
चतुर लोमड़ी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
★बरसात की टपकती बूंद ★
★बरसात की टपकती बूंद ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
*क्या हाल-चाल हैं ? (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
वो जो मुझसे यूं रूठ गई है,
वो जो मुझसे यूं रूठ गई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
की मैन की नहीं सुनी
की मैन की नहीं सुनी
Dhirendra Singh
बेकाबू हैं धड़कनें,
बेकाबू हैं धड़कनें,
sushil sarna
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
Loading...