Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2024 · 1 min read

केशों से मुक्ता गिरे,

केशों से मुक्ता गिरे,
अधर लगें अंगार ।
श्वेत वसन से झाँकता,
उसका रूप अपार ।।

सुशील सरना / 24-2-24

1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सावन आया गा उठे, मौसम मेघ फुहार (कुंडलिया)*
*सावन आया गा उठे, मौसम मेघ फुहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*Author प्रणय प्रभात*
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
Nishant prakhar
*औपचारिकता*
*औपचारिकता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब छोड़ दिया है हमने तो
अब छोड़ दिया है हमने तो
gurudeenverma198
शून्य ....
शून्य ....
sushil sarna
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
Upasana Upadhyay
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
बदलते रिश्ते
बदलते रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
जंगल का रिवाज़
जंगल का रिवाज़
Shekhar Chandra Mitra
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
Dr Shweta sood
आईना प्यार का क्यों देखते हो
आईना प्यार का क्यों देखते हो
Vivek Pandey
मां
मां
Ankita Patel
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
कैसा जुल्म यह नारी पर
कैसा जुल्म यह नारी पर
Dr. Kishan tandon kranti
फूल
फूल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
साधना
साधना
Vandna Thakur
💐प्रेम कौतुक-424💐
💐प्रेम कौतुक-424💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...