Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

कृषक की उपज

कृषक की उपज सबसे न्यारी
है जिसमें मेहनत का श्रम कण
वह सहसा लगा रहता है
अपने श्रमकण में
है जिसका लक्ष्य निर्धारण
अपना कर्म निभाता है

प्रचंड गर्मी का दिन हो
सर्दी की शीत लहर चले
वर्षा ऋतु में बाढ़ बहें
वह मेहनतकश करता है कार्य
है जिसका लक्ष्य निर्धारण
अपना कर्म निभाता है

तू है संबल तू है भोला
हर पल रहता है व्यस्त
सुख दुख में रहता है मस्त
पूरे तन मन से उपजाता जाता है फसले
है जिसका लक्ष्य निर्धारण
अपना कर्म निभाता है

मेहनत तोड़ करता है कार्य
होती है भरमार धान की
सब कुछ पा ही लेता है आखिर में
है जिसका लक्ष्य निर्धारण
अपना कर्म निभाता है।

कवि प्रवीण सैन नवापुरा ध्वेचा
बागोड़ा (जालोर)

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहे
दोहे "हरियाली तीज"
Vaishali Rastogi
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जुनून
जुनून
अखिलेश 'अखिल'
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
gurudeenverma198
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
Bodhisatva kastooriya
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
Phool gufran
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
मजबूरी
मजबूरी
The_dk_poetry
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
कवि रमेशराज
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
मां
मां
Monika Verma
Loading...