Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

“कूँचे गरीब के”

गरीबी की खान है,देखो जरा करीब से,
अमीरों की शान है,देखो जरा नसीब से।

दया नही आती दुनिया को गरीबों पर,
धूप ताप सहकर खेतों में हल चलाते हैं।

सर्द की रातोँ में भी ,अन्न को बचाते हैं,
अन्न को उपजाते हैं और बाजार तक पहुचाते हैं।

धूप ताप वो सहते हैं,
तब जाकर हम भोजन पाते हैं।

आराम नही वो कर पाते ,
तब जाकर अन्न उगाते हैं।

किसान अमीरों के दाता है ,
गरीब होकर भी अमीरों के पेट पालता हैं।

देखो उन्हें गौर से,दया करो उनपे,
पैसा रखकर जेब मे अन्न नही तुम पाओगे।

जब तक गरीब हाथ ना लगायेगे,
तुम भूखे ही रह जाओगे, पेट नही पल पायेंगे।

गरीब पर उपकार करो ,
उनको तुम स्वीकार करो।

वरना कुछ ना कर पाओगे ,
भूखें ही रह जाओगे।

ताकत कहा से पाओगे,
जब किसान को नही अपनाओगे।

पैसे वाले पैसा बहुत कमाओगे,
क्या पैसे को तुम खाओगे?

जो खाने को अन्न और रहने को घर तक बना देते हैं,
खुद खाली पेट और बेघर होकर भी सो जाते हैं।

“जय हो गरीबों की जय हो किसानो की”

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव।
प्रयागराज✍️

Language: Hindi
2 Likes · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सीधेपन से आजकल, दुनिया कहीं चलती नहीं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
विवाह समारोहों में सूक्ष्मता से की गई रिसर्च का रिज़ल्ट*
विवाह समारोहों में सूक्ष्मता से की गई रिसर्च का रिज़ल्ट*
Rituraj shivem verma
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
रास्तों पर चलने वालों को ही,
रास्तों पर चलने वालों को ही,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
महेश चन्द्र त्रिपाठी
🙅आज तक🙅
🙅आज तक🙅
*प्रणय प्रभात*
विश्राम   ...
विश्राम ...
sushil sarna
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ तो मेरी वफ़ा का
कुछ तो मेरी वफ़ा का
Dr fauzia Naseem shad
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
Sushila joshi
जिनमें कोई बात होती है ना
जिनमें कोई बात होती है ना
Ranjeet kumar patre
हर एकपल तेरी दया से माँ
हर एकपल तेरी दया से माँ
Basant Bhagawan Roy
जो हमारा है वो प्यारा है।
जो हमारा है वो प्यारा है।
Rj Anand Prajapati
भावुक हृदय
भावुक हृदय
Dr. Upasana Pandey
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
उठो पुत्र लिख दो पैगाम
उठो पुत्र लिख दो पैगाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दीवानों की चाल है
दीवानों की चाल है
Pratibha Pandey
"अनमोल"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
Neelam Sharma
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...