Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2023 · 1 min read

कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)

हाथी अपनी मस्त चाल चल पड़ा है,
देश के विकास में वह जुट पड़ा है।
पर कुछ कुत्ते उसके पीछे भौंक रहे है,
फिर भी उसकी चाल में न फर्क पड़ा है।

हाथी चलता रहता है,कुत्ते भौंकते रहते है,
और एक दूसरे की रोटी वे छीनते रहते है।
एकता के लिए इकठ्ठे हुए सब एक जगह,
फिर भी वे एकता की टांग खींचते रहते है।।

करते रहते है सभा एक दूजे के स्थान पर,
पर एक मत नही हुए किसी एक स्थान पर।
मुखिया कौन बनेगा इस सभा का भाई,
भौंकते रहते है इसी बात पे हर स्थान पर।।

कुत्तों की बारात है,इसमें अजीब नज़ारा है,
बाराती इनमे कोई नही अजीब नजारा है।
बैंड बाजे के नाम पर कुत्ते सब भौंक रहे है,
दूल्हा बनना चाहते हैं घोड़ा सबको प्यारा है।।

राजनीति से कुछ न लेना ,सच बात लिखता हूं
जो दिखाई दे रहा है उसको ही यहां लिखता हूं।
बुरा न माने कोई इसका सच तो कड़वा होता है,
कुत्तों की ये बारात दूल्हा इसका कोई न होता है।।

हाथी ने अपनी सही मंजिल पकड़ ली है।
भ्रष्ठाचारियो की दौलत को पकड़ ली है।
खत्म हो रही है अकड़ धीरे धीरे उनकी,
इडी सी बी आई की रस्सी से जकड़ ली है।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
वहाॅं कभी मत जाईये
वहाॅं कभी मत जाईये
Paras Nath Jha
उस रब की इबादत का
उस रब की इबादत का
Dr fauzia Naseem shad
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
Er. Sanjay Shrivastava
💐कुड़ी तें लग री शाइनिंग💐
💐कुड़ी तें लग री शाइनिंग💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
Surinder blackpen
तुम
तुम
Sangeeta Beniwal
*धन्यवाद*
*धन्यवाद*
Shashi kala vyas
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
कहानी-
कहानी- "खरीदी हुई औरत।" प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
पिता का आशीष
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
"दौर वो अब से जुदा था
*Author प्रणय प्रभात*
*मोटू (बाल कविता)*
*मोटू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
Raju Gajbhiye
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तारीख
तारीख
Dr. Seema Varma
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
🍂तेरी याद आए🍂
🍂तेरी याद आए🍂
Dr Manju Saini
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
****** मन का मीत  ******
****** मन का मीत ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
Loading...