Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2016 · 1 min read

कुण्डलिया

मँहगाई नकदी रहे, होती नहीं उदार |
इसका कब शनिवार या, होता है रविवार ||
होता है रविवार, जहाँ इक छुट्टी का दिन,
वहीँ पसारे पैर, और ले बदले गिन गिन,
मैं हूँ कवि मतिमंद, न जाना इसको भाई,
फूली है इस देश, सदा ही यह मँहगाई ||

~ अशोक कुमार रक्ताले

1 Like · 2 Comments · 353 Views
You may also like:
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
Writing Challenge- वादा (Promise)
Sahityapedia
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
मिट्टी के दीप जलाना
Yash Tanha Shayar Hu
चलते रहना ही बेहतर है, सुख दुख संग अकेली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
मन
Pakhi Jain
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
*अग्रसेन को पूजिए ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
अष्टांग मार्ग गीत
Buddha Prakash
सबेरा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
काल के चक्रों ने भी, ऐसे यथार्थ दिखाए हैं।
Manisha Manjari
हरी
Alok Vaid Azad
-------------------हिन्दी दिवस ------------------
Tribhuwan mishra 'Chatak'
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुल्क के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
मांगू तुमसे पूजा में, यही छठ मैया
gurudeenverma198
मोरे सैंया
DESH RAJ
हिंदी दोहे बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...