Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2017 · 1 min read

कुडलिया-छंदक्र.४५ से आगे

कुंडलिया छंद

४६

शामा

शामा चिड़िया सुर मधुर,
जंगल जंगल गाय।
महिना चैत अषाढ़ मे,
तिनका तिनका लाय।।
तिनका तिनका लाय
,बनाय घोंसला सुंदर।
अपने बच्चे पाल ,
साथ मे रहती अंदर।।
अनेकांत कवि कहत,
भजन बस रामा रामा।
दया भाव चितधार,
बचायें शामा शामा।।
४७

भुजंगा दर्जिन

भुजंगा दर्जिन चिड़ियाँ,
पतली फुदकी जान।
भुजंगा लम्बी पूँछ
दर्जिन फुदकी नाम।।
दर्जिन फुदकी नाम,
झाड़ी बीच मे रहती।
मानव देख इन्हें,
सुंदर घोसला बुनतीं।।
अनेकांत कवि कहत,
तब ही ऊँचा तिरंगा।
जंगल झाड़ी बचे.
दर्जिन तब ही भुजंगा।।

४८
हाँथी

हाँथी अपने देश की,
कहलाती है शान।
श्रीगणेश मुख शोभते,
तब गजराज महान।।
तब गजराज महान,
पर रक्षा गज की कीजे ।
वन रहते गजराज,
महत्व वनो को दीजे।।
अनेकांत कवि-राय,
पुरातन हालत क्या थी।
अब गिनती के बचे
अपने देश मे हाथी।।

४९

ऊद विलाव

जल जीवों को जानिये,
उनमें ऊद विलाव।
भारत मे अब कम दिखें,
पर्यावरण प्रभाव।
पर्यावरण प्रभाव,
समझिये संकट भारी।
संकट कारण जान,
प्रदूषित नदी हमारी।।
‘अनेकांत’कवि कहत,
जल नीति बनाए सवल
जल जन्तु ऊद विलाव
बचेगा जब नदियन जल।।

५०

श्वेत उलूक

पंछी श्वेत उलूक का,
निर्जन भवन निवास।
आस पास मे ही करे,
भोजन हेतु प्रवास।।
भोजन हेतु प्रवास,
मगर सीमा मे रहते।
पर हम तो इंसान,
न क्यो फिर सीमा रखते।।
‘अनेकांत कवि कहत
सियासत होवे अच्छी।
सुधरे पर्यावरण,
बचेंगे तब ही पंछी।।

राजेन्द्र’अनेकांत’
बालाघाट दि ११-०२-१७

312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
2328.पूर्णिका
2328.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
■ प्रभात वन्दन
■ प्रभात वन्दन
*Author प्रणय प्रभात*
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
Sanjay ' शून्य'
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-509💐
💐प्रेम कौतुक-509💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
एक ही तारनहारा
एक ही तारनहारा
Satish Srijan
"कहानी मेरी अभी ख़त्म नही
पूर्वार्थ
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
Ravi Prakash
"अच्छे साहित्यकार"
Dr. Kishan tandon kranti
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
surenderpal vaidya
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
ruby kumari
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ओ मेरी जान
ओ मेरी जान
gurudeenverma198
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
प्रहरी नित जागता है
प्रहरी नित जागता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
Pravesh Shinde
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...