Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

…. कुछ….

…. कुछ….
चल आज कुछ सुनाती हूं
लफ्जों मे अपने बया करती हूं

ज़िंदगी का यह बहुत प्यारा अहसास है
दूर होकर भी सब के दिल के पास है

मानो खुशियों का मेला है,
यह जीवन भी कहां अकेला है

सब ने गले से लगाया है मुझे
तोहफों से सजाया है मुझे

महफिल के साथीदार ,
हम भी कहलाते हैं
कोहिनूर से दोस्त
हर वादे निभाते हैं

ज़िंदगी के सारे गिले शिकवे हम भूल जाते हैं
जब लोग दिल से गले लगाते हैं

आज खुद पर भी हो रहा विश्वास है
शायद आज का दिन भी कुछ खास है।।
……………………….
नौशाबा जिलानी सुरिया

2 Likes · 91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सम्बन्धों की ज्यामिति"
Dr. Kishan tandon kranti
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
Neelam Sharma
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बचपन, जवानी, बुढ़ापा (तीन मुक्तक)
बचपन, जवानी, बुढ़ापा (तीन मुक्तक)
Ravi Prakash
बाबूजी
बाबूजी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
Trishika S Dhara
3270.*पूर्णिका*
3270.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Don't get hung up
Don't get hung up
पूर्वार्थ
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
जनक देश है महान
जनक देश है महान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
नारी है तू
नारी है तू
Dr. Meenakshi Sharma
,,,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
"
*Author प्रणय प्रभात*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
एक रावण है अशिक्षा का
एक रावण है अशिक्षा का
Seema Verma
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...