Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच

बाप के कपड़े उतर गए,
बेटी को कपड़े पहनाने में।
बेटी के कपड़े उतर गए,
फॉलोअर्स को बढ़ाने में।।

बाप बेचारा थक गया,
रोटी दाल कमाने में।
बेटा अभी थका नही,
मस्ती मौज मनाने में।।

बाप गर्मी में जलता है,
मां चूल्हे में जलती है।
तब कही मुश्किल से
घर की रोटी चलती है।।

बाप तन ना ढक पाया,
बेचारा मर गया सर्दी में।
बच्चे ए सी में बैठे हैं,
मां बाप मर गए गर्मी में।।

ज्यों ज्यों फैशन बढ़ता गया,
तन का कपड़ा घटता गया।
ज्यों ज्यों महंगाई बढ़ती गई,
होटलों में भीड़ बढ़ती गई।।

ज्यों ज्यों चुनाव आते गए,
नेता लोग घरों में आते गए।
नए नए झूठे वादे करते गए,
पर पिछले वादे भूलते गए।।

ज्यों ज्यों पेट्रोल के दाम बढ़ते गए,
त्यो त्यो गाड़ियों में वृद्धि होती गई।
चलाने वाले कभी भी कम ना हुए,
शोर मचाने वाली की वृद्धि होती गई।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 5 Comments · 551 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
कवि रमेशराज
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
दर्पण दिखाना नहीं है
दर्पण दिखाना नहीं है
surenderpal vaidya
जब भी
जब भी
Dr fauzia Naseem shad
■ मंगलकामनाएं
■ मंगलकामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
चार लोग क्या कहेंगे?
चार लोग क्या कहेंगे?
करन ''केसरा''
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
है तो है
है तो है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
I would never force anyone to choose me
I would never force anyone to choose me
पूर्वार्थ
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
Loading...