Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

कुछ लोग प्रेम देते हैं..

कुछ लोग प्रेम देते हैं..
बेतहाशा प्रेम..!

लेकिन फिर उसे एक झटके में छीन भी लेते है और सामने वाले को तड़पने के लिए छोड़ देते है..जैसे कोई किसी माँ से उसके दुधमुँहे बच्चे को छीन ले तो वो तड़प उठती है..!

प्रेम देने वाले को अगर जाना भी हो तो उसे ठीक उसी तरह जाना चाहिए जैसे एक मां अपने सोते हुए बच्चे को थपकी देते हुए उसे नींद आने पर धीरे से हाथ हटा लेती है और उस बच्चे को ये भान रहता है कि उसकी माँ अभी भी उसके पास है..!

जिन्हें प्रेम चाहिए होता है उनके लिए आपके पास होने से ज्यादा..आपके पास होने की अनुभूति मायने रखती है..!!

109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जय लगन कुमार हैप्पी
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
3151.*पूर्णिका*
3151.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गीत
गीत
सत्य कुमार प्रेमी
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
हज़ारों साल
हज़ारों साल
abhishek rajak
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
बड़े ही खुश रहते हो
बड़े ही खुश रहते हो
VINOD CHAUHAN
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
खुशनसीब
खुशनसीब
Bodhisatva kastooriya
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
रंगों का त्योहार होली
रंगों का त्योहार होली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
तीन सौ वर्ष पुराना माई का थान और उसके सेवारत महामंत्री सुनील
तीन सौ वर्ष पुराना माई का थान और उसके सेवारत महामंत्री सुनील
Ravi Prakash
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
"जाम"
Dr. Kishan tandon kranti
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
हर किसी को कहा मोहब्बत के गम नसीब होते हैं।
Phool gufran
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
तुम्हारे पास ज्यादा समय नही हैं, मौत तुम्हारे साये के रूप मे
तुम्हारे पास ज्यादा समय नही हैं, मौत तुम्हारे साये के रूप मे
पूर्वार्थ
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लघुकथा - दायित्व
लघुकथा - दायित्व
अशोक कुमार ढोरिया
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
कवि रमेशराज
अनुगामी
अनुगामी
Davina Amar Thakral
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
shabina. Naaz
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
*प्रणय प्रभात*
Loading...