Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।

कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
दूर से बहुत खूबसूरत होते हैं।
हमें लगता है कि हम इनके साथ महफूज़ रहेंगे लेकिन अफ़सोस, इनके कांटें इनके पास आने के बाद ही दिखते हैं, जो जब चुभते हैं, तो सीधा दिल पर लगते हैं।

531 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
कैसे कहे
कैसे कहे
Dr. Mahesh Kumawat
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
भूल चुके हैं
भूल चुके हैं
Neeraj Agarwal
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
Manisha Manjari
भेज भी दो
भेज भी दो
हिमांशु Kulshrestha
2431.पूर्णिका
2431.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"" *सुनीलानंद* ""
सुनीलानंद महंत
आँखों में सपनों को लेकर क्या करोगे
आँखों में सपनों को लेकर क्या करोगे
Suryakant Dwivedi
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
Trishika S Dhara
.
.
*प्रणय प्रभात*
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
"रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
ज़माना
ज़माना
अखिलेश 'अखिल'
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
summer as festival*
summer as festival*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौजूदा ये साल मयस्ससर हो जाए
मौजूदा ये साल मयस्ससर हो जाए
Shweta Soni
होली है ....
होली है ....
Kshma Urmila
हम अभी
हम अभी
Dr fauzia Naseem shad
मर्दों वाला काम
मर्दों वाला काम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमराही
हमराही
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
जिस समय से हमारा मन,
जिस समय से हमारा मन,
नेताम आर सी
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
Loading...