Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2023 · 1 min read

कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।

कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
राजा जिया का हूं, जहान का नहीं।।

243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कंक्रीट के गुलशन में
कंक्रीट के गुलशन में
Satish Srijan
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
पूर्वार्थ
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
कवि रमेशराज
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बात बनती हो जहाँ,  बात बनाए रखिए ।
बात बनती हो जहाँ, बात बनाए रखिए ।
Rajesh Tiwari
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
बस अणु भर मैं
बस अणु भर मैं
Atul "Krishn"
बेइंतहा सब्र बक्शा है
बेइंतहा सब्र बक्शा है
Dheerja Sharma
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
छद्म शत्रु
छद्म शत्रु
Arti Bhadauria
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
अधूरे ख़्वाब की जैसे
अधूरे ख़्वाब की जैसे
Dr fauzia Naseem shad
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह मेरी इच्छा है
यह मेरी इच्छा है
gurudeenverma198
सखी री आया फागुन मास
सखी री आया फागुन मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
किसी की याद आना
किसी की याद आना
श्याम सिंह बिष्ट
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
Kanchan Khanna
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
Loading...