Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

कुछ बातें पुरानी

मैं कहूं कुछ बातें पुरानी।
बीते दशक के कुछ किस्से कहानी ।।

गुड्डे गुड़िया की शादी है जिसमें।
और है पापा की जेब से गिरे हुए सिक्के ।।

छोटी छोटी ज़िद की आँसुओं की है नदियां।
और साथ हैं वो घंटो भरी सिसकियां ।।

मैं कहूं कुछ बातें पुरानी।
बीते दशक के कुछ किस्से कहानी ।।

ना नींद का था दोपहर में कोई ठिकाना।
घर – घर खेलना और शोर मचाना ।।

आइसक्रीम की घंटी सुनकर दौड़ लगाना ।
ना मिलने पर वही धूल में लौट जाना ।।

कुछ ऐसा था वो बचपन का जमाना ।
लड़ना झगड़ना और दुबक कर रोना ।।

मैं कहूं कुछ बातें पुरानी ।
बीते दशक के कुछ किस्से कहानी ।।

हर वक्त बे वक्त तैयार रहते थे हम ।
दुनिया की झंझटो से तब अनजान थे हम ।।

ना किसी बात की फ़िक्र थी ना थी कोई जिम्मेदारी।
दिन भर मस्ती करना और करना अपनी ही मनमानी ।।

मैं कहूं कुछ बातें पुरानी ।
बीते दशक के कुछ किस्से कहानी ।।

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
Monika Verma
2948.*पूर्णिका*
2948.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"चालाक आदमी की दास्तान"
Pushpraj Anant
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लत / MUSAFIR BAITHA
लत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लोकतंत्र का खेल
लोकतंत्र का खेल
Anil chobisa
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
Ranjeet kumar patre
कान का कच्चा
कान का कच्चा
Dr. Kishan tandon kranti
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
अपनों का दीद है।
अपनों का दीद है।
Satish Srijan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घनाक्षरी छंद
घनाक्षरी छंद
Rajesh vyas
स्मृति
स्मृति
Neeraj Agarwal
जीवन को
जीवन को
Dr fauzia Naseem shad
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
*धन्य विवेकानंद प्रवक्ता, सत्य सनातन ज्ञान के (गीत)*
*धन्य विवेकानंद प्रवक्ता, सत्य सनातन ज्ञान के (गीत)*
Ravi Prakash
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
Sukoon
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...