Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2023 · 1 min read

कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें

कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
ये लम्हें मयस्सर कल फिर हो न हो।
उम्र बढ़ेगी बच्चे भी निकल पड़ेंगे कल की खोज में
कंपकपाते हाथों में हाथ कल हो न हो।
बूढ़ा शरीर फिर से एक दुजे का सहारा होगा
जाने तब फिर ये हालात हो न हो।

170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
युवा
युवा
Akshay patel
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*पूर्णिका*
*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
Whenever My Heart finds Solitude
Whenever My Heart finds Solitude
कुमार
दूसरे दर्जे का आदमी
दूसरे दर्जे का आदमी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दो पल की जिन्दगी मिली ,
दो पल की जिन्दगी मिली ,
Nishant prakhar
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ तो गम-ए-हिज्र था,कुछ तेरी बेवफाई भी।
कुछ तो गम-ए-हिज्र था,कुछ तेरी बेवफाई भी।
पूर्वार्थ
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
🙅आज का लतीफ़ा🙅
🙅आज का लतीफ़ा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दस्तक भूली राह दरवाजा
दस्तक भूली राह दरवाजा
Suryakant Dwivedi
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
"लाठी"
Dr. Kishan tandon kranti
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
Kanchan Alok Malu
।। आशा और आकांक्षा ।।
।। आशा और आकांक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ख़्वाब की होती ये
ख़्वाब की होती ये
Dr fauzia Naseem shad
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
Loading...