कुछ न कुछ बदला जाए

चलो आज से
कुछ ना कुछ बदला जाए।

माँ हर दम कुछ ना कुछ
है करती रहती
धरती अपनी धुर पर
है चलती रहती
ऐसे ही अब कुछ
खुद को बदला जाए।

समय, सूर्य अपने पथ पर
रहते अविचल
नदिया भी रह शांत सदा
बहती कल-कल
करें अनुसरण जीवन
पथ बदला जाये।

मछली, चींटी, विषधर
कभी नहीं सोते
संत, युगंधर, योद्धा
कभी नहीं रोते
दृढ़ता ले इनसे कुछ
मन बदला जाए।

मिलन क्षितिज जैसा
बच्चों सा मन विशाल
वाणी कोयल सी
पर्वत सा उच्च भाल
हो इन जैसा कुछ
जीवन चमका जाए।

187 Views
You may also like:
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
Little sister
Buddha Prakash
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हनुमंता
Dhirendra Panchal
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H.
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
Loading...